Monday, January 5, 2009

नए साल पर मिला नैना को एक उपहार

नैना
    
छोटी सी ये नैना मेरी
प्यारी सी ये नैना मेरी
मेरे दिल के बाग़ की ये मैना मेरी
प्यारी सी ये बिटिया नैना मेरी।
Zjg15ti
सुंदर सी इसकी आँखे
प्यारी सी इसकी नाक
छोटे छोटे इसके होंठ
और प्यारे से मीठे इसके बोल
आँखे ही ज्यादा बातें करें,
इसलिए नाम हैं इसका नैना।
Z7wm9d
दूध माखन खाए ये
घर भर में घूम आए ये
कभी मम्मी, तो कभी पापा को
जी भर के सताए ये
और पुकारते रहे रात दिन
बस नैना ओ नैना

नए साल में क्या पोस्ट करुँ यही सोच रहा था| विजय जी ने शनिवार को बताया कि वो अभी नैना पर कुछ लिख रहें हैं। और कुछ देर में आपको मेल भेज रहा हूँ।  यह नैना को मेरी तरफ से नए साल का उपहार। जब कुछ देर बाद उनका मेल आया। नैना पर लिखी उनकी रचना को पढ़कर भावुक हो गया।।  इंसानी रिश्तों की कहानी भी बड़ी निराली होती हैं। किसी का दिल कब किस से मिल जाए कुछ पता नहीं। फिर नैना को बताया कि चुनमुन बेटा विजय अकंल जी( बीच में ही बोल पड़ी कौन?)  ने आप पर एक कविता लिखी हैं। हल्की सी मुस्कराई,सरमाई और बोली दिखाओ दिखाओ। मैं पढ़कर उसे सुनाता रहा और वो मंद मंद मुस्कराती रही। और आखिर में मैंने पूछा कि चुनमुन कैसी लगी। अच्छी या खराब। तो बोली " अच्छी" और सरमा गई। फिर सोचा नए साल पर इससे अच्छी पोस्ट और क्या हो सकती है। अपने ब्लोग की शुरुआत भी मैंने अपनी बेटी पर लिखी एक तुकंबदी से की थी। और साल की शुरुआत भी इसी से की जाए तो क्या बुरा हैं। वैसे भी बेटियाँ बाप की लाडली होती हैं। साथ ही इस उम्मीद के साथ कि .......।

नया साल आऐगा
खुशियों के मोती लाऐगा
हर झोली में मोती चमकेंगे
फिर हम सब झूमेंगे
ऐसा नया साल आऐगा।
 

23 comments:

मुसाफिर जाट said...

छौक्कर जी रामराम,
बढ़िया लगी आपकी नैना कविता.
मेरी तरफ से भी आपकी हाँ में हाँ.

रंजना [रंजू भाटिया] said...

वाह बहुत सुंदर कविता .नैना को मेरा बहुत स्नेह इस से अच्छी शुरुआत तो कोई हो ही नहीं सकती थी नई साल की पोस्ट की ..

दिगम्बर नासवा said...

नैना के नैनो से झांकती सुंदर कविता
सुंदर अभिव्यक्ति, मैं इस बात से इत्तेफाक रखता हूँ की बेटियाँ बाप की लाडली होती हैं

Amit said...

बहुत सुंदर कविता..नैना को ढेर सारा स्नेह .........

Mired Mirage said...

प्यारी सी नैना के लिए लिखी प्यारी सी कविता। बढ़िया रही।
घुघूती बासूती

ताऊ रामपुरिया said...

नैना को बहुत सारा स्नेह और आशिष. उससे मिलवाने के लिये आपका आभार. समय समय पर नैना बिटिया की तस्विरों के जरिये हम सबसे मिलवाते रहियेगा.

रामराम.

कुश said...

प्यारी सी नैना.. और प्यारी सी कविता..

राज भाटिय़ा said...

प्यारी सी नैना को हमारा बहुत स्नेह, बहुत प्यारी बच्ची है , बिलकुल आप की कविता की तरह से.
धन्यवाद

अविनाश वाचस्पति said...

नैना सचमुच में

मैना ही है पर

अगर वो न

सताए तो ...


आप को शिकायत

हो जाएगी कि

वो सताती नहीं है।


भेजती वो पाती नहीं

फिर भी बताती सही

खेल उसको दिल

खोल देते हैं

बातें उसकी देती
हैं मिश्री घोल

नहीं खोली आपने

क्‍यों यह पोल ?

बोल सुशील बोल।

नीरज गोस्वामी said...

प्यारी नैना को आशीर्वाद....इश्वर उसे हमेशा खुश रखे...
नीरज

poemsnpuja said...

pyaari naina ko hamara dher sa pyaar...naye saal par vakai isse pyari post nahin ho sakti thi.

vandana said...

navvarsh par naina aur uske papa ko hardik shubhkamnayein......bahut sundar abhivyakti beti ke liye .....har pita ki ladli hoti hain betiyan

अल्पना वर्मा said...

सुशील जी ,vijay ji ne aap ki बिटिया के लिए इतनी सुंदर कविता di jo एक उपहार ही है.
नैना पर sabhi kavitaon ko alag संभाल कर रखीये ..यह भी प्यारी अनुभूति ही तो है.

picture bahut chhoti hai -clear nahin dikh rahi -lekin bahut pyari lag rahi hai..
नैना को ढेर सा स्नेह और आशीष दीजियेगा.
नव वर्ष आप सभी के लिए ढेर सारी खुशियाँ लाये.

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

प्यारी बिटिया के गर्वीले पापा की खुशी तो समाये नहीं समा रही है - बहुत-बहुत बधाई, कविता पढ़कर अच्छा लगा.
"वह कौन था" पूरी हो गयी है, अब आप तीनों खंड एक साथ पढ़ सकते हैं.

KK Yadav said...

नया साल आऐगा

खुशियों के मोती लाऐगा

हर झोली में मोती चमकेंगे

फिर हम सब झूमेंगे

ऐसा नया साल आऐगा।
...bahut khub.

Irshad said...

क्या अहसास है. आपके अपने दिल की बात. सच्ची बात हमेशा दिल को छु जाती है. नैना बच्ची को बहुत बहुत दुआए.

मीत said...

bahut sunder...
---meet

dwij said...

ज़रूर आएगा ऐसा साल .

इसी यक़ीन ,

इसी दुआ के साथ
सादर

द्विज

Vijay Kumar Sappatti said...

susheel ji , namaskar,

sorry main tour par hone ke kaaran blog par nahi aa saka.

to , naina madam ke liye kavita chap gayi .. wah bhai wah .. naina to badi lucky hai .. papa ki chunmun to hai , aur vijay uncle ki bulbul bhi ...

sach kaha dost , rishte kaise bante hai , pata nahi ,.....

kahan main , kahan naina.... bus prabhu ki hi krupa hai ..
meri pyari si bitiya ko dher saara pyaar dijiyenga , aur meri taraf se ek choclate bhi ...

jab delhi aaunga to naina ki der saari photos click karunga ..

aapka

vijay

आशुतोष दुबे "सादिक" said...

aap ne bahut accha likha hai,aap aise hi likhte rahe,aisi kamna hai,

जितेन्द़ भगत said...

मासूम और प्‍यारी कवि‍ता। मन आह्लाद से भर गया।

muskan said...

छोटी सी ये नैना मेरी

प्यारी सी ये नैना मेरी.....

sachmuch bahut pyari hai apki naina

sanju said...

नैना को हम सबकी तरफ से स्नेह भरा प्यार

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails