Tuesday, June 21, 2011

बचपन की गलियां

Image0478

मेरे बचपन की गलियां, थी बड़ी खुली-खुली
ट्रेन की आवाजें होती थी, मेरे मां की घंड़ी।
लिखता था तख्ती पर, मुलतानी मिट्टी पोत के
सरकड़ो की कलम बना, काली स्याही में डुबो के।
पाठशाला में जमीन पर बैठा करता था
टाट खुद ही घर से ले जाया करता था।
खट्टी-मीठी संतरे की गोली मुंह में डाल के
क से कलम, द से दवात बोला करता था।
टन-टन बजती जब पूरी छुटटी की घंटी
पीठ पर बस्ता टांगे, हाथ में तख्ती लिए
दौड़ जाता था, शोर मचाते हुए घर के लिए।

Image0486


फेंक फिर बस्ते को घर के एक कोने में
भाग जाया करता था भरी दोपहरी में,
गिल्ली-डंड़ा और कंचे खेलने के लिए।
वापिस जब आता था
कमीज की झोली कंचो से भर लाता था।
मां गुस्से में डांटती थी
सारे के सारे कंचे नाली में बहा डालती थी।
नलके पर हाथ मुंह धोते हुए
एक चपत भी लगा दिया करती थी।
लगा मेरी पीठ फिर दीवार पर, पढ़ने बैठा दिया करती थी
स्कूल का सारा काम अपने सामने ही करवाया करती थी।

Image1063


शाम ढलती थी, रात होती थी
मां के चूल्हे में आग होती थी।
खिलाकर फिर मुझे रोटी दाल
खाट पर सुला दिया करती थी।

                                             - सुशील छौक्कर

6 comments:

अमिताभ श्रीवास्तव said...

"दिन बचपन के कुछ बेहतरीन होते हैं, इसीलिये वक्त की आगोश में लीन होते हैं" रचना मर्म के पास होकर गुजरती है खासकर अंतिम चार लाइन कि-" शाम ढलती थी, रात होती थी......" वाली. क्योंकि वो क्षण आज गुम से गये हैं...वो सुकून, वो सुख, वो प्यारा सा अहसास और वो बेपरवाह नींद....अब कहा मौसूल भाई...। "कभी ऐसा भी कर डालिये कि चिल्ला कर दौड लगा दीजिये..सडक पर तेजी से दौडते हुए सबको हैरान कर दीजिये..घर के चबूतरे पर बैठ कर तेजी से सांस लीजिये और खुद के बचकाने पर खुल कर हंस दीजिये..., देखिये जिन्दगी भी कहेगी, मेरे दोस्त तू बूढा नहीं न ही दिन गुजरे हैं..बता मुझे जीना..कुछ पल मुझे भी दीजिये..."
हम अपने शब्दों में जी सकते हैं, बचपन को जिन्दा कर सकते हैं...तो क्यूं न करें सौशील भाई, बहुत अच्छी रचना है, पहले भी पढी थी मगर इस बार इसलिये बेहतर लग रही है कि इस बार मैं आपको भी जानता हूं....

वन्दना said...

बचपन को बखूबी बयाँ कर दिया और यादो की कुंडी खडखडा दी………………बहुत सुन्दर रचना

Rajey Sha राजे_शा said...

हर उम्र के साथ चलना चाहि‍ये, कि‍सी उम्र को ढोना नहीं चाहि‍ये।

Ratan Singh Shekhawat said...

सुन्दर रचना

Vijay Kumar Sappatti said...

KYA KAHE SUSHEEL BHAI . AAPNE TO MOHALLO KI YAAD DILWA DI HAI ....

VIJAY

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बचपन की यादें बहुत अच्छे से लिखी हैं ..सुन्दर प्रस्तुति

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails