Monday, March 30, 2009

बस का सहयात्री


वह  

रोज इंतजार किया करता था वह मेरा  
डी.टी.सी की बस नम्बर 234 में 
पहनकर काली पेंट और सफेद कमीज़  
लगाकर आँखो पर काला चश्मा 
लेकर साथ अपने एक काला बैग 
चढ़ते ही बस में मेरे 
बैठने की जगह बना दिया करता था  
बतलाता था 
खिलखिलाता था 
यूँ तो शादीशुदा था 
पर बातें बच्चों सी किया करता था
ना जाने कैसे और कहाँ से 
सारे जहान के दुखों की खबर भी रखा करता था 
खड़ा होकर स्टैण्ड से पहले ही 
गेट पर पहुँच जाया करता था
उतर कर स्टैण्ड पर   
छड़ी बैग से निकाल 
सड़क पार किया करता था 
सोचता हूँ तो सिरह उठता हूँ 
कैसे हर पल वह जिया करता था   

28 comments:

अनिल कान्त : said...

अंतिम पंक्तियों ने दिल में अजीब सी हलचल पैदा कर दी ....बहुत ही संवेदनशील पोस्ट

Science Bloggers Association said...

जिंदगी के करीब से गुजरती रचना कही है आपने बधाई।
-----------
तस्‍लीम
साइंस ब्‍लॉगर्स असोसिएशन

prabhat gopal said...

achi rahi sirji

Vijay Kumar Sappatti said...

susheel ji bahut hi touchy poem hai .. bheed me ek aadmi ,ek pahchaan de deta hai .. wah bhai wah ..

ek choti si typographical error hai .. ant me sihar ke badle me sirh likha hai .. use theek kar lijiye ..
bahut sakun mila .. is post ko padhkar , ki kahin aadmi aaj bhi zinda hai ..

कुश said...

ज़िंदगी जीने का जज़्बा जो लोग पा लेते है वो हर चुनौती का सामना कर लेते है.. ऐसे ही किरदार से आज मिलवा दिया आपने.. बहुत ही उम्दा लिखा है.. वाकई

डॉ .अनुराग said...

एक रेखा चित्र है उस आम आदमी का जो रोज की भीड़ में इस कदर शामिल है की गुम हुआ लगता है

ताऊ रामपुरिया said...

बहुत गहरी बात कह दी आपने.
रामराम.

मीत said...

उसे ही ऑंखें कब से ढूंढ रही हैं और ढूँढती रहेंगी...
मीत

दिगम्बर नासवा said...

जीवन से जूझती हुयी कविता, हकीकत के करीब, आपने जिंदगी को बहुत करीब से देखा है बहुत ही सुन्दर और सार्थक लिखा है.

अविनाश वाचस्पति said...

आदमी जिंदा है

पर यहां आदमीयत

जिंदा दिखाई दे रही है

इस जज्‍बे को सलाम

रंजना [रंजू भाटिया] said...

इसी को ज़िन्दगी जीना कहते हैं ज़िन्दगी गुजारना नहीं ..बच्चो सी बाते और आगे बढ़ने का होंसला ..जिन्दगी को राह दिखा ही देते हैं ..अच्छा लिखा आपने सुशील जी

neeshoo said...

मार्मिक प्रंसगगत रचना । इस दुनिया में ऐसे बहुत लोग है पर चलने का जज्बां कम में ही दिखता है ।

शोभा said...

संवेदन शील कविता।

अल्पना वर्मा said...

एक आम आदमी की तस्वीर शायद ऐसी ही है...
जीवन की मुश्किलें अक्सर उनसे लड़ने का होसला भी देती हैं..
अंतिम पंक्तियाँ मर्मस्पर्शी हैं.
अच्छी कविता है.

राज भाटिय़ा said...

मुश्किलो से लड कर जीना इसे ही तो कहते है, लेकिन अन्तिम पक्तियां ने झझंकोर कर रख दिया.
धन्यवाद

poemsnpuja said...

inki gumshudgi ki report koi nahin likhwata...chaliye accha hua aapne milwa diya...bada accha laga

vandana said...

bahut gahri soch ko darshati kavita.......ek aam aadmi ke jeevan ko samajhna itna aasan nhi hota aur aapne wo kar dikhaya.

Harkirat Haqeer said...

ना जाने कैसे और कहाँ से
सारे जहान के दुखों की खबर भी रखा करता था
खड़ा होकर स्टैण्ड से पहले ही
गेट पर पहुँच जाया करता था
उतर कर स्टैण्ड पर
छड़ी बैग से निकाल
सड़क पार किया करता था
सोचता हूँ तो सिरह उठता हूँ
कैसे हर पल वह जिया करता था

अन्तिम पक्तियां ने झझंकोर कर रख दिया....
न उनकी कोई रंगीन दुनिया है न सतरंगी सपने....फिर भी तो जिए जा रहे हैं....एक हम हैं जो सब कुछ होते हुए भी न होने का रोना ...!!!

राजीव तनेजा said...

हमें कहते हो कि आपकी रचनाओं में मंटो की झलक दिखाई देती है...अब आपकी इस रचना में क्या है?....

अच्छी रचना

मुसाफिर जाट said...

सुशील जी, कहाँ से ले आते हो आप ऐसे टोपिक? कभी बस वाली लड़की और आज सहयात्री?

Harsh said...

shusil ji nice post

अमिताभ श्रीवास्तव said...

shushilji,
bahut achche dhang se ek jindgi ko ujaagar kiya he, ek esi jindgi jo akeli hone ke baad bhi aankh valo ko bahut kuchh sochne par mazboor kar deti he.

MUFLIS said...

uss 'kaale chashme' ke vyaktitva ka barhe hi manovaigyanik dhang se adhyayan kiya hai aapne...
aur khoobsurat alfaaz mei piro kar
ek achhi rachna ka swaroop diya hai
badhaaee.
---MUFLIS---

sandhyagupta said...

Gahra asar chodti hai aapki yah rachna.Likhte rahiye.

Dr.Ajeet said...

sushil ji aap bhi humari tarh ati samvednsheel prani ho..apne mitr gourav solanki ji ke blog se aap link mila aur laga ki ab tak aapse n mil ker apna hi bura ho rha tha..kabhi kabhi main kuch panktiya likh liya karta hoon aap jaisa paripakv to nahi bus jaisa hoon vaisa hi hoon..
mera blog ka pata hai
www.shesh-fir.blogspot.com
Dr.Ajeet

रविकांत पाण्डेय said...

बहुत ही मार्मिक लिखा है आपने। मन की संवेदनाएँ जागृत हो गईं।

अमिताभ श्रीवास्तव said...

aapka naya photo bahut badhiya he sushilji,
dhnyavaad, meri kavita par apne baat kahne ke liye..
par ek baar fir kahunga photo shandaar he.

Jayant Chaudhary said...

Those last lines were great.
Excellent climax.
I am really touched.

Thanks for such nice poetry.

~Jayant

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails