Monday, August 25, 2008

एक लाचारी भरा दिन

दो किलकारी

दो किलकारीयाँ घर में गूँजने से पहले
बीच रास्तें में ही कहीं दफ़न हो गई
कोई अनदेखी अनजानी डोर उन्हें खींच ले गई
बहना काका काका पुँकारती रही
माँ दर्द में कराहती हुई आवाज़ लगाती रही
दादी कहती मेरे दो फूल आओ और खिल जाओ
दादा रुँधे गले से बोल रहे
ओ मेरे राम लक्ष्मण मेरे बुढ़ापे के साथी बन जाओ
मैं ना आवाज़ मार सका, ना हाथ ही बढ़ा सका
मैं दो दो हाथ लिए भी पत्थर की मूर्ति बना खड़ा
बस देखता रहा, बस देखता रहा, बस देखता रहा ....

15 comments:

pallavi trivedi said...

kya kahu...bhaavuk kar diya aapne.

रंजना [रंजू भाटिया] said...

भावुक दिल को छू लेने वाली रचना ..निशब्द कर दिया इसने

swati said...

सच्‍चे दि‍ल से आत्‍माभि‍व्‍यक्‍ति‍।

Dr. Chandra Kumar Jain said...

बहुत सहज...नैसर्गिक
और
संवेदनशील प्रस्तुति.
आपके गुरुदेव का मंतव्य बिल्कुल सही है.
===============================
डॉ.चन्द्रकुमार जैन

Beji said...

"When you come to the edge of all the light you know and you are about to step off in the darkness of the unknown, faith knows one of two things will happen: There will be something solid to stand on, or you will be taught how to fly." Anonymous

अनुराग said...

आप भी सेंटी आदमी हो यार .....

राजीव तनेजा said...

मित्र....

समय हर दुख....
हर परेशानी को हर लेता है....
फिर नया सवेरा होगा...
फिर पंछी चहकेंगे....
उनकी किलोल से पूरा घर-आंगन महकेगा....

ऐसे समय में भी पोस्ट लिखने के बहुत हिम्मत चाहिए....
आपको एक नहीं...दो नहीं....
सौ-सौ सलाम....

Dr. Chandra Kumar Jain said...

नमन मेरा भी.
तनेजा जी की टिप्पणी
और उनकी मेल से हकीकत जान पाया.
मुझे लगता है जिंदगी और जिंदादिली को
चरितार्थ कर दिखाया है आपने.....सलाम आपको.
====================================
चन्द्रकुमार

रंजना [रंजू भाटिया] said...

सुशील जी आपकी हिम्मत को सलाम यही कह सकती हूँ ..ईश्वर सब अच्छा करेगा |

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

बहुत संवेदनशील रचना है!

swati said...

bahut hi saahas ka kaam hai ,apni sachhi bhavnao ko saamne laana.....

नीरज गोस्वामी said...

मार्मिक अभिव्यक्ति....
नीरज

महेन said...

अच्छा लिखा है बंधु।

महेन said...

अच्छा लिखा है बंधु।

मीत said...

apke dil ki tees likhi hai is lekh mein....
pr ye bhi to sach hai ki jo hota hai ache ke liye hota hai...

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails