Thursday, June 26, 2008

वह कौन हैं?

वह कौन 


वह नही पहनती सूट-सलवार
वह पहनती नीली जिंस जिस पर सफेद शर्ट।

वह नहीं चलती आँख झुका के
वह चलती सर उठा के।

वह नही माँगती चीजें सँवरने के लिए
वह माँगती एक हेयर बैंड बालों में लगाने के लिए।

वह नही बनाती सिर्फ सहेली
वह बनाती दोस्त भी।

वह नही बतयाती धीरे-धीरे
वह बतयाती खिलखिला के।

वह नही जाती फिल्में देखने
वह जाती नाटक देखने।

वह नही लिखती प्रेम भरी कविता
वह लिखती अपनी कहानी।

वह घर नहीं लौटती सूरज छीपने के पहले
वह घर लौटती चाँद निकलने के बाद।

वह कौन है? एक बोला
वह तेज है? दूसरा बोला
वह चालू है? तीसरा बोला
वह बदचलन हैं? चौथा बोला
वह अंवा-गार्द बिंदास हैं? पाँचवा बोला
वह एक इंसान हैं। छठा बोला

10 comments:

advocate rashmi saurana said...

rachana sundar hai.par ladaki pata nhi..............

कुश एक खूबसूरत ख्याल said...

वो जानती है दुनिया में वो जीने के लिए आई है.. वो ज़िंदगी जीती है..

रंजू ranju said...

वह एक जिंदगी है जो जानती है कि उसको अपनी तरह से कैसे जीना है ..:) नई सी इबारत से सजी है यह रचना आपकी अच्छी लगी मुझे :)

महेन said...

पाँचों जायें भाड़ में आप तो ये बताओ कि ये लड़की रहती कहाँ है? दिल्ली में ऐसी लड़कियाँ मंडी हाउस इलाके में बहुत मिलती थीं मगर बंगलोर में नहीं… दुआ करो कि हर लड़की इस रंग में ढल सके। कविता सुंदर बन पड़ी है।
शुभम।

Mired Mirage said...

महेन जी की टिप्पणी पर ध्यान दिया जाए। वह कौन है यह महत्वपूर्ण नहीं है, वह है यही महत्वपूर्ण है।
घुघूती बासूती

मीत said...

sach se avgat kara diya apne...
bahut acha likha hai..
keep it up

DR.ANURAG said...

ये तो मेरी कई दोस्तों में से एक है......वैसे सफ़ेद शर्ट ओर जींस ...इससे बेहतर लिबास कोई नही....आपके लिखे में एक अनूठापन है.....बरकरार रखिये.....

Udan Tashtari said...

कॉल सेन्टर वगैरह में कहीं काम करती होगी भाई-जीने दो उसे.काहे कयास लगा रहे हो.

श्रद्धा जैन said...

Zindgi jine ka ek tarika hai apne liye jina bhi to haq hai ladki ka

log kya kahte hain ye parvaah agar karti to kavi ki lekhan main kaha se aati

sushil ji achha laga aapki is anuthi kalpana se milna

rajivtaneja said...

बन्धुवर...ज़माना इन्हीं का है....उन्मुक्त जीना कोई इन्हीं से सीखे

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails